Sign In

अंजीर क्या है, इसके फायदे, उपयोग और सेवन करने का तरीका (Anjeer kya hai, iske fayde, upyog aur sevan karne ka tarika)

अंजीर क्या है, इसके फायदे, उपयोग और सेवन करने का तरीका (Anjeer kya hai, iske fayde, upyog aur sevan karne ka tarika)

Reading Time: 4 minutes
Article Rating
3.6/5

ड्राई फ्रूट्स तो आप सभी खाते हैं जैसे कि काजू, बादाम, किशमिश, लेकिन क्या आपको पता है? इन्हीं  ड्राई फ्रूट्स में शामिल है एक और ड्राई फ्रूट्स जो खुद में छुपाए हुए हैं न जाने कितने  सारे पौष्टिक तत्व और गुण। यहाँ हम अंजीर की बात कर रहे है। अंजीर भी एक बहुत ही फायदेमंद और लाभदायक ड्राई फ्रूट है। क्या आप जानते हैं कि अंजीर का सेवन करने से आपको कितना लाभ मिल सकता है?  

आयुर्वेद में अंजीर का अपना अलग ही महत्व है। जहां एक तरफ अंजीर शरीर को स्वस्थ तो रखता ही है साथ ही त्वचा, पैंक्रियास सम्बंधित विकारों को भी जल्द से जल्द ठीक करता है। 

आज हम यहां जानेंगे अंजीर क्या है? अंजीर के फायदे (anjeer ke fayde), उपयोग और उसका सेवन करने के सही तरीकों के बारे में तो चलिए शुरू करते हैं :

अंजीर क्या है? (Anjeer Kya Hai?)

यह एक साधारण सा दिखने वाला सूखा फल है। आमतौर पर इसके दो प्रकार होते हैं :

पहला – जिस की खेती की जाती है। इसके पत्ते और फल बड़े बड़े होते हैं। 

दूसरा – यानी कि जंगली अंजीर। इसके फल और पत्ते पहले प्रकार वाले अंजीर की तुलना में काफी छोटे होते हैं।

अंजीर के फायदे ( Benefits of Anjeer in hindi) 

आइए जानते हैं अंजीर के औषधीय प्रयोग और इससे मिलने वाले फायदों के बारे में :

पाचन तंत्र की समस्या में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in digestion in hindi)

आजकल हर कोई पाचन तंत्र की समस्या से परेशान है। पाचन तंत्र की समस्या से निजात पाने में अंजीर आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। यदि आप  नियमित रूप से अंजीर का सेवन करें तो अपच यानी कि इनडाइजेशन में अंजीर आपके लिए बहुत लाभदायक हो सकता है।

 एसिडिटी (पेट की जलन) में अंजीर से लाभ (Benefits of anjeer in acidity in hindi)

अक्सर बहुत ज्यादा मसालेदार खाना खाने से पेट में काफी जलन उत्पन्न हो जाती है जिससे कि लोगों को एसिडिटी की समस्या हो जाती है ऐसे में अगर आप अंजीर का सेवन करते हैं तो आपको इससे बहुत फायदा मिल सकता है। इसके लिए आपको अंजीर के एक या दो  सूखे फल को गुड़ के साथ खाना है। इससे एसिडिटी या पेट की जलन में काफी राहत मिलती है।

कब्ज की समस्या में  अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Constipation in hindi)

आजकल बहुत से लोग कब्ज, या कॉन्स्टिपेशन से बीमार होते हैं  जो आगे चलकर कई गंभीर बीमारियों को जन्म भी देता है। ऐसे में अंजीर आप के लिए वरदान साबित हो सकता है। इसके लिए आपको अंजीर के 1 से 2 फलों को लगातार कुछ दिनों तक सेवन करना होगा। इससे आपको कब्ज में काफी फायदा मिल सकता है। 

अंजीर से पाएं सिर दर्द में आराम (Benefits of anjeer in Headache in hindi)

यदि आप सिर दर्द से परेशान हैं तो अंजीर आपको बहुत राहत दे सकता है। सिर दर्द से पीड़ित इंसान को अंजीर के वृक्ष की छाल को महीन पीस कर उसे अपने सिर पर लेप लगाना चाहिए इससे सिर दर्द में राहत मिलती है।

खूनी बवासीर में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Piles in hindi)

यदि आप खूनी बवासीर से बहुत परेशान है तो इसमें अंजीर आपके लिए बहुत अच्छा साबित हो सकता है।  ऐसे में आप दो अंजीर को  शाम के समय में पानी में भिगो दें। सुबह उसे चबा चबा कर खाएं। इसी प्रकार सुबह भिगोए हुए अंजीर को शाम या रात के समय खा सकते हैं।  ऐसा आप करीब 8 से 10 दिनों तक करें इससे आपको खूनी बवासीर में बहुत फायदा मिलेगा।

पेचिश में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Dysentery in hindi)

अंजीर खाने के बहुत सारे  फायदे हैं। पेचिश से परेशान व्यक्ति को  नियमित रूप से रोज अंजीर का सेवन करना चाहिए।

आंतों की सूजन में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Inflammation of the Intestine in hindi)

यदि आपका आंत स्वस्थ है तो आप कई रोगों से बच जाएंगे। यदि आपको आंत से संबंधित विकार है या अपच संबंधित रोगों से परेशान हैं तो आप  अंजीर का सेवन करें। इससे आपको जल्द से जल्द लाभ होगा।

मूत्र रोग में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Inflammation of the Intestine in hindi)

यदि आप नियमित रूप से अंजीर का सेवन करते हैं तो आपको मूत्र सम्बंधित रोग जैसे कि : चयापचयजन्य (मेटाबोलिक), पेशाब में दर्द होना आदि रोगों में लाभ होगा।

कमजोरी से परेशान तो करें अंजीर का सेवन (Benefits of anjeer in Inflammation of the Intestine in hindi)

यदि आपको शारीरिक कमजोरी है तो अंजीर आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होगा। इसके लिए प्रतिदिन आप एक अंजीर का सेवन जरूर करें। अगर आप अंजीर के एक या दो सूखे फलों को रात में पानी में भिगोकर रख दें और सुबह खाली पेट चबा चबाकर खाएं तो इससे आपका शरीर स्वस्थ और तंदुरुस्त रहेगा।

मुंह के छालों और रोगों में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Oral Problems in hindi)

यदि आप मुंह के छालों और रोगों से बहुत परेशान है और बार-बार आपके मुंह में छाले और कोई ना कोई रोग हो जाता है तो ऐसे में आप अंजीर के सूखे फलों को पीसकर उसका काढ़ा बना लें और उस काढ़े से गरारा करें। इससे आपके मुंह के अंदर में होने वाले फोड़े, फुंसी और छालों से आपको छुटकारा मिल जाएगा।

सांस के रोगों में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Respiratory Disorders in hindi)

यदि आप सांस के रोगों से परेशान हैं तो इसमें अंजीर आपके लिए काफी फायदेमंद सिद्ध हो सकता है। ऐसे में आप अंजीर के मुलायम शाखाओं को तोड़कर उसका काढ़ा बना लें और इसे 10 से 20 मिलीग्राम की मात्रा में पिएं। ऐसा करने से आपको सांस से संबंधित रोगों से छुटकारा मिल जाएगा।

दमा में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Asthma in hindi)

आजकल बहुत सारे लोग दमा के शिकार हो जाते हैं। इसमें अंजीर का नियमित रूप से सेवन करने से काफी फायदा मिलता है। इसके लिए आप अंजीर और गोरख इमली चूर्ण दोनों को बराबर बराबर मात्रा में मिलाकर रख लें। इसे प्रतिदिन 1 से 2 ग्राम की मात्रा में खाएं। इससे आपको दमा में काफी राहत मिलेगी।

पुरानी खांसी में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Chronic Cough in hindi)

यदि आप पुरानी खांसी  या काली खांसी से परेशान है। तो आप अंजीर के फल को मधु के साथ खाएं। इससे आपको पुरानी खांसी, काली खांसी और बलगम के साथ आने वाले खून जैसे कई रोगों में राहत मिलेगा।

टीवी के रोग में अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in T.B Disease in hindi)

टीवी के मरीजों को नियमित रूप से एक अंजीर के फल का सेवन करना चाहिए। इससे उन्हें टीवी जैसी भयंकर बीमारी में बहुत रात मिलेगी।

कीट दंश और कीड़ा मकोड़ा के काटने पर अंजीर के फायदे (Benefits of anjeer in Insect Bite in hindi)

यदि आप कीड़े मकोड़ों के काटने और जलन से परेशान है तो आप दर्द वाले जगह पर अंजीर का दूध को लगाएं। इससे आपको  कीड़ें मकोड़े तथा किट दंश से होने वाले दर्द और सूजन से  छुटकारा मिलेगा।

सूजन की समस्या में अंजीर के फायदे। (Benefits of anjeer in Inflammation in hindi)

शरीर के किसी भी अंग पर सूजन हो जाए तो सूखे या फिर हरे अंजीर को अच्छे से पीस लें और इसे जल में पका लें। जब यह थोड़ा गुनगुना हो जाए तो इसे सूजन वाले स्थान पर लगाएं। इससे आपको सूजन से राहत मिलेगी।

अंजीर का सेवन करने का तरीका : 

अंजीर फल : 1 से 2

अंजीर का काढ़ा : 10 – 20 मिली।नोट : अंजीर का सेवन किसी भी विशेष  लिए करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें।

Frequently Asked Questions

1. प्रतिदिन अंजीर के कितने फलों को खाना चाहिए ?

प्रतिदिन अंजीर के 1 या 2  करना चाहिए।

2. भारत में अंजीर कहाँ पाई या उगाई जाती है ?

भारत में अंजीर की खेती उत्तरी – पश्चिमी प्रदेशों, तथा दक्षिणी प्रदेशों में की जाती है।

3. अंजीर का सेवन कब करना चाहिए?

अंजीर का सेवन आप सुबह, शाम या रात में सोने से पहले कर सकते हैं।